कार्य का विवरण

संसदीय कार्य अनुभाग-1 द्वारा व्यवहृत किये जाने वाले कार्य
  • संसदीय कार्योंं से सम्बन्धित संवैधानिक मामले।
  • विधान मण्डल के दोनों सदनों के लिए
    • विधायी तथा अन्य सरकारी कार्योंं का संकलन, नियोजन तथा समन्वय।
    • बैठकों का कार्यक्रम तैयार करना, अधिवेशन आहूत करना तथा सत्रावसान करना।
    • प्रक्रिया तथा कार्य संचालन नियमावली में संशोधन।
    • नियमावलियों, विज्ञप्तियों आदि को प्रस्तुत करना।
    • प्रश्‍नोत्तर का वार निर्धारित करना।
    • विधान मण्डल में प्रस्तुत संकल्प तथा तत्सम्बंधी सूचनायें।
  • राज्यपाल का अभिभाषण।
  • विधान मण्डल के सदस्यों की अनर्हता निवारण संबंधी अधिनियम तथा प्रतिवेदनों का परीक्षण।
  • राज्य विधान सभा और राज्य विधान परिषद् के सचिवालयों की सेवा नियमावलियों से संबंधित मामले।
  • प्रतिनिधानित विधायन समिति की रिपोर्टों पर की गई कार्यवाही से सम्बन्धित सूचना का संग्रह।
  • विभिन्न संस्थाओं के लिए विधान मण्डल के सदस्यों का निर्वाचन।
  • विधान सभा के नियम-49, 63, 311, 142, 193, 103, 300 निदेश संख्या - 165/166, नियम 52, 69 व 59 से संबंधित कार्य।
  • विभिन्न समितियों में विधायकों की सदस्यता से सम्बन्धित सूचनायें एवं इस सम्बन्ध में सचिवालय के अनुभागों को परामर्श।
  • उत्तर प्रदेश विधान मण्डल के सदस्यों तथा अधिकारियोंं से सम्बन्धित अधिनियम तथा नियम तथा अन्य मामले।
  • असरकारी संकल्पों एवं विधेयकों पर शासन का दृष्टिकोण निर्धारित करना।
  • विधान मण्डल की याचिका समिति के प्रतिवेदनों का परीक्षण एवं कार्यान्वयन।
  • विधान मण्डल के सदनों में पुरःस्थापित एवं पारित विधेयकों की अंग्रेजी प्रतियों के मुद्रण के समय उनकी सत्यता सुनिश्चित करना।
  • विधान मण्डल की समितियों से प्राप्त सूचनाओं का कार्यान्वयन और उससे सम्बन्धित कार्य।
  • संसदीय कार्य सचिव शाखा के अधीन सचिवालय के स्टाफ का अधिष्ठान संबंधी कार्य।
  • संसदीय कार्य एवं विधायी विभाग के मध्य समन्वयात्मक कार्य।